Header Ads Widget

Responsive Advertisement

UP के रण में कार्यकर्ताओं को पूरी ताकत से उतारने की तैयारी में BJP, शाह-राजनाथ-नड्डा की तिकड़ी को मिला है जिम्मा

bjp_gears_up_to_form_yogi_sarkar_once_again_nadda_shah_rajnath_will_give_mantra_to_booth_workers

 

उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव के लिए मुख्य चुनाव प्रचार अभियान शुरू होने के पहले भाजपा अपने कार्यकर्ताओं को पूरी ताकत से मैदान में उतारने में जुटी है। यही वजह है कि पार्टी के विभिन्न क्षेत्रों में हो रहे बूथ सम्मेलनों में बड़े नेताओं की मौजूदगी सुनिश्चित की जा रही है। पार्टी के तीन बड़े नेता राजनाथ सिंह, अमित शाह और जेपी नड्डा इन सम्मेलनों के जरिए कार्यकर्ताओं में न सिर्फ जोश भर रहे हैं, बल्कि उनको जनता के बीच जाकर, आम आदमी को जोड़ने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा राष्ट्रीय कार्यकारिणी में दिए गए मंत्र पर अमल करने को भी कह रहे हैं।

गौरतलब है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कार्यकारिणी की बैठक से भाजपा कार्यकर्ताओं का आह्वान करते हुए कहा था कि उनको जनता के मन में जगह बनानी है। पार्टी ने दिसंबर का महीना अपने इसी रणनीति के लिए तय कर रखा है, जिसमें उसका पूरा जोर पूरी क्षमता से हर विधानसभा क्षेत्र में हर बूथ पर कार्यकर्ताओं की बड़ी फौज तैनात करना है, ताकि प्रचार से लेकर मतदान तक कहीं कोई कमी ना रह सके।

जनवरी माह से भाजपा का धुआंधार प्रचार अभियान शुरू हो जाएगा, जिसमें बड़ी रैली रैलियों और सभाओं के साथ नुक्कड़ सभाओं के जरिए पार्टी जनता के बीच पहुंचेगी।

त्रिस्तरीय चुनाव रणनीति पर अमल कर रही है पार्टी
पार्टी अपनी त्रिस्तरीय चुनाव रणनीति पर अमल कर रही है, जिसमें यह उसका दूसरा चरण चल रहा है, जो कार्यकर्ताओं पर केंद्रित है। सूत्रों के अनुसार पार्टी उत्तर प्रदेश के हर बूथ पर कम से कम 50 कार्यकर्ताओं की ऐसी टीम तैयार कर रही है, जो घर-घर दस्तक देने से लेकर मतदाताओं को बूथ तक लाने के लिए पूरे समय काम करेगी।

इसके अलावा पार्टी के की सभाओं, प्रचार सामग्रियों आदि को जनता तक पहुंचाने में भी जुटेगी। इसमें सोशल मीडिया पर भी यह टीम सक्रिय रहेगी। इसमें व्हाट्सएप, फेसबुक और ट्विटर के जरिए सरकार की विकास योजनाओं, उपलब्धियों, भावी कार्यक्रमों एवं सामाजिक और राजनीतिक मुद्दों पर व्यापक संदेश रहेंगे। 

 

 

 ये भी पढ़ें-

नासा का यह प्रयोग सफल रहा तो धरती पर आने वाले किसी भी एस्टेरॉयड को रास्ते में ही खत्म किया जा सकेगा

 

 

Post a Comment

0 Comments